जिले के बारे में

पंचकूला हरियाणा राज्य का एक सुव्यवस्थित शहर है। पंचकूला शहर 1995  में जिले के रूप में स्थापित किया गया था। यह संघ राज्य क्षेत्र चंडीगढ़ का एक उपग्रह शहर है। भारतीय पश्चिमी कमांड के प्रतिष्ठित चंडीमंदिर छावनी मुख्यालय भी पंचकूला शहर में स्थित हैं। जिले में पंचकूला, बरवाला, पिंजोर, कालका और रायपुर रानी नामक पांच शहर हैं। मोरनी के नाम से जाना जाने वाला हरियाणा का एकमात्र हिल स्टेशन भी जिला पंचकूला जिले  में स्थित है। वर्ष 2011 में पंचकूला की जनसंख्या 561,293 थी, जिसमें से पुरुष और महिला क्रमशः 299, 679 और 261, 614 थे। पंचकूला और मोहाली (पंजाब) चंडीगढ़ के दो उपग्रह शहर हैं। इन  तीनो शहरों को सामूहिक तौर पर चंडीगढ़ ट्राइसीटी के नाम से जाना जाता  है।

पंचकूला नाम की उत्पत्ति स्थानीय शब्द पंच (संस्कृत: पंच यानी पांच) और कुल (संस्कृत: कुल यानी नहरों) “5 नहरों का शहर” से लिया गया है, संभवत: पांच सिंचाई नहरों की ओर इशारा करता है जो ऊंची पहाडों में घग्गर से पानी लेते हैं और इसे नाडा साहिब से मनसा देवी तक वितरित किया जाता  है। नाडा नहर  अब नदी  की वजह से घिसती  जा रही  है और अधिकांश नहरे  चंडीमंदिर  छावनी होकर   मनसा देवी से  गुजरती है। नहर सामुदायिक संपत्ति का एक बढ़िया उदाहरण है, जिनका रख रखाव ग्रामीणों द्वारा समय समय पर किया जाता है। नहरों को एक शासक द्वारा अतीत में बनाया गया था और नदियों की आकृति की पालना करते हुए बनाया गया ताकि नदी के पानी को नदी स्तर से उपर रखा जाये।

यधपि जिला पंचकुला 20 वीं शताब्दी के अंतिम दशक के मध्य में अस्तित्व में आया था, फिर भी इसकी पुरातनता किसी भी संदेह से परे है। जिले के शुरुआती निवासी पौराणिक युग के पत्थर के औजार का उपयोग करते थे जैसे कि चाक़ू, हाथ-कुल्हाड़ी आदि। जिन्हे मनसा देवी क्षेत्र (बिलासपुर), पिंजोर और सकेतडी से खोजा गया है। प्राचीन समय में आर्य भी भावनात्मक रूप से इस क्षेत्र से जुडे थे। यह जिला पांडवों के साथ जुड़ा हुआ है क्योंकि उनके निर्वासन के समय जब वह हिमालय के लिए जा रहे थे तो कुछ समय के लिए यहां रहे थे। यह जगह पहले पंचपुरा के नाम से जाना जाता था जिसका नाम बाद में पिंजोर पडा। पिंजोर बाओली शिलालेख से पंचपुर नाम की व्याख्या की गई थी जिसकी खोज यहां हुई थी। पिंजोर का उल्लेख एक प्राचीन साहित्य में भी किया गया है। यह क्षेत्र अप्रत्यक्ष रूप से विदेशी कुशन और यौदे शासकों के प्रभाव में भी रहा था। इस तथ्य की पुष्टि कुशन ईटों से की जा सकती है जिन्हे वर्तमान में जिला अम्बाला के साथ लगती सीमा में हाल ही में खोजी गई हैं। मजूमदार के अनुसार, यह क्षेत्र गुप्त वंश का हिस्सा था। यह तथ्य गुप्त वंश के चांदी के सिक्कों की खोज पर आधारित है।

सांतवी शताब्दी के समापन और आठवीं शताब्दी के पहले भाग के करीब, जिला पंचकूला, कनौज के यशोवरमन और कश्मीर के शासक ललितादित्या के शाही महत्वाकांक्षाओं का शिकार हो गया। 12वीं शताब्दी के दौरान, दिल्ली के चौहान द्वारा इस क्षेत्र का अधिग्रहण किया गया था। उन्होंने अम्बाला के आसपास के जिले सहित क्षेत्र में शांति और व्यवस्था बहाल की। शिलालेख, दिनांक ए.डी. 1164,  मुस्लिम आक्रमणकारियों का विरोध करने में भूमिका निभाता है। इस संदर्भ में, यह कहा जाता है कि पृथ्वीराज-द्वितीय के मामा किल्लहन, हंसी के गवर्नर के रूप में नियुक्त किए गए थे और उन्होंने पंचपुरा (पिंजोर) के शासक को हराया और उस क्षेत्र में चौहान शासन का विस्तार किया। तारैन (ए.डी. 1192) की दूसरी लड़ाई में पृथ्वीराज-III पर शिहाब-उद-दीन घुरी की निर्णायक विजय के परिणामस्वरूप जिला अंतत: मुस्लिम शासन के लिए पारित हुआ। शिहाब-उद-दीन घुरी की मृत्यु के बाद, कुतुब-उद-दीन ऐबक ने उत्तर भारत में मुस्लिम शासन स्थापित किया। इस क्षेत्र को दिल्ली सल्तनत में भी शामिल किया गया था। तबाकत-ए-नसीरी पिंजोर के आसपास के क्षेत्र में सुल्तान नासीर-उद-दीन महमूद की जीत और वहां से लूटेरो की लूट का उल्लेख है। फिरोज की मृत्यु के बाद, इस क्षेत्र ने उन गहन विवादों की पूरी ताकत महसूस की जो दिल्ली-राज्य को परेशान कर रहे थे। इसके फलस्वरूप, इसके निकटस्थ प्रदेश और यह क्षेत्र तुगलक़ों के नियंत्रण से बाहर हो गए। तिमुर (1398) के आक्रमण ने शिवालिक पहाड़ियों (संभवतः पिंजोर सहित) तक पूरे देश को नष्ट कर दिया। लेकिन उनका बोलबाला लंबे समय तक नहीं रहा। इसके बाद क्षेत्र मुगलों पर पारित किया। इस क्षेत्र सहित एक विशाल क्षेत्र अकबर, महान, के नियंत्रण में था। फिदाई खान, औरंगजेब के मास्टर ऑफ ऑर्डनेंस ने पिंजोर में एक खूबसूरत बगीचा बनाया। रोहिल्ला द्वारा इस क्षेत्र पर विजय प्राप्त की गई, लेकिन जल्द ही उन्हें मराठों द्वारा निष्कासित कर दिया गया। मराठों को अंग्रेजों द्वारा बुरी तरह से भगा दिया गया और  इस क्षेत्र का प्रमुख भाग अंग्रेजों के तहत 1803 में पारित कर दिया गया था। अब मनीमाजरा से लगभग तीन किलोमीटर की दूरी पर बिलासपुर गांव का हिस्सा बनने वाला क्षेत्र मनीमाजरा के शासक के अधीन था। मनीरमाजरा (गुरबख्श सिंह) के शासक ने 1815 ईस्वी में माता मनसा देवी के पुराने मंदिर का निर्माण किया। कालका सहित क्षेत्र में पूर्वी रियासतों का एक हिस्सा पटियाला था, लेकिन 1846 में अंग्रेजों ने इसे अधिग्रहण कर लिया था। बाद में इसे जिला शिमला में शामिल किया गया था । अम्बाला क्षेत्र के प्रमुखों को उनकी सुरक्षा के तहत ले जाने के बाद, अम्बाला में राजनीतिक एजेंसी के माध्यम से अंग्रेजों ने इस क्षेत्र के सभी राज्यों के मामलों को सबसे प्रभावी तरीके से नियंत्रित किया। अम्बाला की राजनीतिक एजेंसी सीआईएस-सतलुज राज्यों के आयुक्त के अधीन कमानशाही में बदल गई थी और राजनीतिक पर्यवेक्षण और राज्यों पर नियंत्रण तेज था। 1846 तक, कई सरशंसियों ने पुरुष उत्तराधिकारियों की विफलता और प्रशासकीय मशीनरी के टूटने की वजह से कई बार लोप हो गए थे। अंग्रेजों ने अम्बाला के चारों ओर क्षेत्र के स्ट्रिप्स का अधिग्रहण किया, जिसे अम्बाला जिले में शामिल किया गया था। 1858 तक, पूरा हरियाणा क्षेत्र पंजाब का हिस्सा था। शिमला जिले का हिस्सा कालका क्षेत्र 1899 में अम्बाला जिले में स्थानांतरित किया गया। 1966 तक कोई परिवर्तन नहीं हुआ। नवंबर 1966 में हरियाणा के गठन से पहले अम्बाला जिले में छह तहसीलें थीं लेकिन फिर से संगठन के दौरान हिमाचल प्रदेश में नालगाड़ तहसील और पंजाब में खरड तहसील का बड़ा हिस्सा और चंडीगढ़ कैपिटल प्रोजेक्ट एरिया सहित कुछ गांवों को नए गठन केंद्र शासित प्रदेश चंडीगढ़ को मिला। अम्बाला जिले में केवल 3 तहसीलें अम्बाला, जगाधरी और नारायणगढ़ में 153 गांव शामिल हैं। कालका शहर खरड तहसील से स्थानांतरितद कर दिया गया। बाद में 1967 में 153 गांवों और कालका शहर को नारायणगढ़ तहसील से निकाला गया और एक अलग कालका तहसील में बनाया गया। कालका तहसील के संदर्भ में 1971-81 के दौरान कोई न्यायक्षेत्र परिवर्तन नहीं हुआ था। 1981-91 के दौरान अम्बाला जिला का क्षेत्राधिकार बदल गया। पंचकूला तहसील का निर्माण कालका तहसील के 77 गांवों और अक्टूबर 1989 में नारायणगढ़ तहसील के 19 गांवों को स्थानांतरित करके किया गया था। इन 96 गांवों में से चार गांव पूरी तरह से पंचकूला शहरी इलाके में विलय कर दिए गए थे। पूर्ण पंचकूला जिला 15-8-1995 से अस्तित्व में आया। अब इसमें तीन तहसीलें कालका, पंचकूला और रायपुर रानी हैं।